कर्नाटक में कैबिनेट पर थमा घमासान, जेडीएस को वित्त और कांग्रेस को गृह मंत्रालय, साथ लड़ेंगे लोकसभा चुनाव

| Last Updated:

नई दिल्ली:

कर्नाटक में सरकार गठन के बाद मंत्रालय बंटवारे को लेकर फंसा पेच सुलझा लिया गया है। गठबंधन की बड़ी पार्टी कांग्रेस को गृह मंत्रालय मिला है तो वहीं दूसरी पार्टी जनता दल सेक्युलर (जेडीएस) को वित्त मंत्रालय दिया गया है।

मंत्रालय के बंटवारे को लेकर हुई बैठक के बाद कांग्रेस नेता के सी वेणुगोपाल ने इस बात की जानकारी मीडिया को दी।

उन्होंने कहा, 'मंत्रालय बंटवारे और कैबिनेट विस्तार को लेकर हुई बैठक में हम लोग इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि जेडीएस के नेता वित्त मंत्रालय संभालेंगे। सभी विभागों को लेकर फैसला हो चुका है।'

कैबिनेट विस्तार के बाद उपमुख्यमंत्री  जी परमेश्वर ने कहा, 'हम अच्छा शासन जारी रखेंगे। यह समझौता नहीं है, हम दोनों को एक साथ आना है। लेन और देन की नीति रहेगी। आखिरी तक हमें गठबंधन चलना है।'

राज्य में हुए कैबिनेट विस्तार और बंटवारे में कांग्रेस के हिस्से में गृह मंत्रालय समेत कुल 22 मंत्रालय आए हैं। जिसमें सिंचाई, स्वास्थ्य, कृषि सहित महिला और बाल विकास मंत्रालय मिला है।

वहीं जेडीएस के खाते में वित्त और उत्पाद विभाग, पीडब्ल्यूडी, शिक्षा, पर्यटन और परिवहन सहित कुल 12 मंत्रालय आए हैं।

मीडिया से बातचीत के बाद वेणुगोपाल ने कहा, 'बैठक में इस बात पर भी सहमति बनी है कि 2019 का लोकसभा चुनाव कांग्रेस और जेडीएस आपस में मिलकर लड़ेंगी।'

इसे भी पढ़ेंः कुमारस्वामी ने कहा, लोगों ने नहीं, पुण्यात्मा राहुल गांधी ने बनाया मुख्यमंत्री

बता दें कि राज्य में कांग्रेस और जेडीएस गठबंधन की सरकार बनी है। जेडीएस नेता कुमारस्वामी को मुख्यमंत्री बनाया गया है, वहीं कांग्रेस नेता केजी परमेश्वर को उपमुख्यमंत्री बनाया गया है।

राज्य में हुए विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी है। यहां बीजेपी को 104 सीटें मिली है वहीं कांग्रेस के खाते में 78 सीटें है। जबकि जेडीएस गठबंधन ने 38 सीटों पर कब्जा जमाया है।

सभी राज्यों की खबरों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

First Published: