बीजेपी कर रही है आरक्षण को खत्म करने की साजिश, सवर्णों का बंद RSS प्रायोजित : तेजस्वी यादव

| Last Updated:

पटना:

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) नेता तेजस्वी यादव ने एक बार फिर भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधा है। तेजस्वी यादव ने 6 सितंबर को सवर्णों द्वारा बुलाए गए भारत बंद को बीजेपी और आरएसएस (राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ) द्वारा प्रायोजित बताया। आरजेडी नेता ने कहा कि बीजेपी और आरएसएस देश में आरक्षण को खत्म करना चाहती है। मंगलवार को पटना में बुलाई गई आरजेडी की बैठक में तेजस्वी ने कहा कि बीजेपी चाहती है कि देश में नागपुरिया कानून लागू हो जाय।

तेजस्वी यादव ने कहा, 'जिस प्रकार से संविधान को खत्म करने की कोशिश की जा रही है और आरक्षण को बड़ी चतुराई के साथ ये लोग खत्म करना चाह रहे हैं, इसको लेकर के देश की जनता और हम सब लोग इस चालाकी को जान रहे हैं पहचान रहे हैं। इनके जाल में हमलोग फंसने वाले नहीं हैं बल्कि इनको हम आने वाले चुनाव में करारा जवाब देंगे।'

उन्होंने कहा, 'जिस प्रकार दलितों पर शोषण हो रहा है चाहे कोरेगांव की बात हो या कहीं और की बात हो। बीजेपी शासित राज्यों में तो दलित परिवार के बाराती को घोड़े पर नहीं चढ़ने नहीं दिया जा रहा है। जिस वर्ण व्यवस्था के खिलाफ हम लोग आवाज उठाते रहे हैं उसी को वे लोग (बीजेपी) दोबारा कायम करना चाहते हैं।'

तेजस्वी ने कहा, 'भारत बंद कर जिस प्रकार पिछड़ों और दलितों के बीच फूट डालने की कोशिश की गई, इनके झांसे में अब कोई आने वाले हैं। हम जनता के बीच इनकी असलियत को उजागर करने का काम करेंगे। हमारी मांग है कि जातिगत जनगणना सार्वजनिक हो जिससे जाति की स्थिति साफ हो सके।'

उन्होंने कहा कि बीजेपी के लोगो सामाजिक न्याय और सौहार्द को बिगाड़ने का काम कर रहे हैं, जो सत्ता में बैठे हुए हैं वे सबसे बड़े जातिवादी लोग हैं, जो समाज में शोषित लोगों का फिर से शोषण करने में लगे हैं।

और पढ़ें : बिहार में बढ़ते अपराध को लेकर तेजस्वी यादव का नीतीश कुमार पर हमला, कहा- मुख्यमंत्री में लोकशर्म ही नहीं बची

तेजस्वी यादव ने कहा कि एससी/एसटी एक्ट को लेकर हमलोग और मजबूती के साथ खड़े होंगे और मांग करेंगे कि इसे नौंवी अनुसूची में डाला जाय ताकि किसी की भी मजाल न हो कि इसके साथ छेड़छाड़ कर सके।

First Published: