दिल्ली : चोर होने के शक में नाबालिग की पीट-पीटकर हत्या, छह लोगों की हुई गिरफ्तारी

| Last Updated:

नई दिल्ली:

चोरी के आरोप में एक नाबालिग को पीट-पीटकर मारने के मामले में दिल्ली पुलिस ने चार और लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। इस मामले में अबतक छह लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है। पुलिस उपायुक्त (उत्तर-पश्चिम) असलम खान ने बताया कि मंगलवार को 16 वर्षीय लड़का कथित रूप से सामान चुराने घर में घुसा था लेकिन घर के मालिक ने उसे पकड़ लिया और स्थानीय लोगों ने उसे पीट-पीटकर मार डाला। पोस्टमार्टम रिपोर्ट की मानें तो नाबालिग की मौत अधिक रक्त स्त्राव की वजह से हुई। उसके शरीर पर चोट के कई निशान पाए गए।

पुलिस उपायुक्त ने बताया, 'मंगलवार को मुकुंदपुर से नंद किशोर और राज किशोर को गिरफ्तार किया गया था। वहीं बुधवार को इस मामले में त्रिवेणी, देशराज, संत लाल और सोहन लाल को पकड़ा गया।'
डीसीपी ने बताया कि पहले धारा 304 के तहत मामला दर्ज किया गया था। लेकिन बाद में पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद भारतीय दंड संहिता की धारा 302 (हत्या) के तहत केस दर्ज किया गया।
दूसरे पुलिस ऑफिसर के मुताबिक नाबालिग घर में सुबह 3.30 बजे घुसा था जिसे उसी वक्त पकड़ लिया गया था। पुलिस को करीब तीन घंटे बाद यानी 6.30 बजे सूचना दी गई। यानी उसे तीन घंटे तक पीटा गया।

और पढ़ें : देश में मॉब लिंचिंग के लिए कौन है जिम्मेदार? पढ़ें बीजेपी और कांग्रेस के जवाब

पुलिस ने बताया कि जब मृतक कथित तौर पर चोरी करने घर में घुसा था तब उसके साथ दो और लोग ते। घर में मौजूद एक महिला की नींद शोर सुनकर जग गई और उसने दूसरी मंजिल पर तीन लड़कों को देखा था। दो अन्य वहां से भाग गए, लेकिन एक नाबालिग को पकड़ लिया गया और मालिक और पड़ोसियों ने उसे पीट-पीटकर मार डाला।

और पढ़ें : बीजेपी के पोस्टरों में राजीव गांधी को मॉब लिंचिंग का 'जनक' बताया गया

First Published: